Search Results for:

मासिक शिवरात्रि : व्रत कथा, मुहूर्त व पूजा विधि

हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि का जितना महत्व है उतना ही हर माह पड़ने वाली ‘मास शिवरात्रि’ या मासिक शिवरात्रि का है। हिंदू पंचांग अनुसार, यह हर माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को पड़ता है। मासिक शिवरात्रि व्रत व्रत नाम मास शिवरात्रि सम्बंध शिव तिथि प्रत्येक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि धार्मिक महत्व ‘मासिक शिवरात्रि’ के दिन व्रत …

मासिक शिवरात्रि : व्रत कथा, मुहूर्त व पूजा विधि Read More »

चैत्र नवरात्रि व्रत, मुहूर्त और पूजा विधि

हिन्दु धर्म में चैत्र नवरात्रि का विशेष महत्व है। यह चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष के प्रतिपदा से नवमी तिथि तक होता है। इंग्लिश कलेंडर अनुसार यह प्रत्येक वर्ष (मार्च अप्रेल के महीने) में पड़ता है। इन नौ दिनों में नवरात्रि में दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है। चैत्र नवरात्र व्रत कथा …

चैत्र नवरात्रि व्रत, मुहूर्त और पूजा विधि Read More »

गणगौर व्रत कथा और पूजन विधि

गणगौर राजस्थान एवं सीमावर्ती मध्य प्रदेश का एक प्रमुख त्यौहार है जो चैत्र महीने की शुक्ल पक्ष की तीज को मनाया जाता है। गणगौर तीज को सौभाग्य तीज भी कहा जाता है। इस दिन कुवांरी लड़कियां एवं विवाहित महिलायें शिव और पार्वती (गौरी) की पूजा करती हैं। गणगौर व्रत क्यों मनाया जाता है? गणगौर राजस्थान में आस्था प्रेम और पारिवारिक सौहार्द …

गणगौर व्रत कथा और पूजन विधि Read More »

ऋषि पंचमी व्रत कथा और पूजन विधि

ऋषिपंचमी का त्यौहार भाद्रपद महीने में शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। यह त्यौहार हरतालिका तीज के 2 दिन बाद और गणेश चतुर्थी के अगले दिन पड़ता है। मान्यता है कि यह व्रत लोगों के समस्त पापों को समाप्त करता है और शुभ फलदायी होता है। यह व्रत ऋषियों के प्रति श्रद्धा, कृतज्ञता, …

ऋषि पंचमी व्रत कथा और पूजन विधि Read More »

प्रदोष व्रत कथा और पूजन विधि

हिन्दू कलेंडर अनुसार प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी (13वी तिथि) के दिन संध्याकाल के समय को ‘प्रदोष’ कहा जाता है। प्रदोष शिवजी को श्रावण मास तथा महा शिवरात्रि की तरह ही प्रिय है। इस व्रत को करने से मनुष्य के सभी कष्ट और पाप नष्ट होते हैं एवं मनुष्य को अभीष्ट की प्राप्ति …

प्रदोष व्रत कथा और पूजन विधि Read More »