डॉ भोजराज द्विवेदी (Astrologer)

Dr. Bhojraj Dwivedi
Dr. Bhojraj Dwivedi

Quick Introduction

  • नाम:- डॉ भोजराज द्विवेदी
  • कार्य:- ज्योतिष, हस्तरेखा, वास्तु शास्त्री, मंत्र-तंत्र-यंत्र आदि
  • पता:-130, Marudeep, Agyat Darshan Complex, 1st A Road, Sardarpura, jodhpur (R.J) 342003
  • Website:- www.agyatdarshan.net

डॉ भोजराज द्विवेदी (Dr. Bhojraj Dwivedi)

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वास्तुशास्त्री एवं ज्योतिषाचार्य डॉ. भोजराज द्विवेदी कालजयी समय के अनमोल हस्ताक्षर है। इंटरनेशनल वास्तु एसोसिएशन के संस्थापक डॉ. भोजराज द्विवेदी की यशस्वी लेखनी में रचित ज्योतिष, वास्तु शास्त्र, हस्तरेखा, अंक विद्या, आकृति विज्ञान, यंत्र-तंत्र-मंत्र विज्ञान,कर्मकाण्ड व पौरोहित्य पर लगभग 400 से अधिक पुस्तके देश-विदेश की अनेक भाषाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं।

डॉ भोजराज द्विवेदी का जन्म ग्राम दुन्दाडा जिला जोधपुर में 5 सितंबर, 1949 को हुआ था। डॉ द्विवेदी एम.ए (संस्कृत) प्रथम श्रेणी में, पीएचडी (ज्योतिष) एवं डी० लिट० की उपाधियों से सम्मानित है। 7 मार्च, 1966 में जानकी देवी से इनका विवाह हुआ एवं दो आज्ञाकारी पुत्री एवं एक पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। पुत्र पंडित रमेश द्विवेदी भी अपने पिता के समान ही ज्योतिष के उत्थान कार्य में संलग्न है।

4 सितम्बर 1949 को जन्मे पंडित भोजराज द्विवेदी जी को उनके कार्य के लिए स्वर्ण पदक व सैकड़ों मानद उपाधियां द्वारा सम्मानित किया गया है। जिसमें प्राच्यविद्या महामहोपाध्याय, ज्योतिष शिरोमणि, ज्योतिष सम्राट आदि प्रमुख है।

इनकी संस्था “अज्ञात दर्शन” के अतर्गत भारतीय प्राच्य विद्याओं पर अनेक अतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय सम्मेलन देश-विदेशों में हो चुके हैं ।

ज्योतिष  के प्रचार-प्रचार व उत्थान के लिए अन्तर्राष्ट्रीय  वास्तु  ऐसोसिएशन द्वारा ज्योतिष  का पत्राचार द्वारा प्रशिक्षण करवाया जाता है। ज्योतिष , वास्तु, हस्तरेखा, अंकशास्त्र व भविष्य  जानने की विभिन्न विधाओं पर इनके द्वारा पत्राचार से कोर्सेज भी करवाऐ जाते है। 


चर्चित भविष्यवाणियाँ (Famous Prediction)

ज्योतिष के क्षेत्र में अज्ञात दर्शन एवं श्री चण्ड मार्तण्ड के माध्यम से 3000 से अधिक राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की भविष्यवाणियां पूर्व प्रकाशित होकर समय चक्र के साथ-साथ चलकर सत्य प्रमाणित हो चुकी है। डॉ भोजराज की कुछ चर्चित भविष्यवाणी निम्न है-

  1. बेनजीर भुट्टों को फांसी
  2. राजीव गांधी दुर्घटना
  3. वर्ष 2004 सुनामी


डॉ भोजराज पुस्तकों की सूची (Books By Dr. Bhojraj Dwivedi)


डॉ भोजराज ने सन् 1981 में ‘अंगुष्ठ से भविष्य ज्ञान’ फिर ‘पांव तले भविष्य’ नामक दो पुस्तके प्रकाशित कर ज्योतिष जगत में हंगामा मचा दिया था। ज्योतिष प्रेमियों ने इस नवीन विषय को लेकर लिखी गई पुस्तकों को खूब सराहा और भोजराज एक जाना पहचाना नाम बन गए।

इसके बाद भोजराज ने लेखन जारी रखा और हस्तरेखा, ज्योतिष, वास्तु शास्त्र, तंत्र मंत्र, वर्षफल आदि विभिन्न विषयों पर 400 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित की। नीचे भोजराज द्विवेदी द्वारा रचित कुछ पुस्तकों की सूची दी जा रही है-

सामुद्रिक शास्त्र और अंक ज्योतिष

  • अंगुष्ठ से भविष्य ज्ञान
  • पाँव तले भविष्य
  • हस्त रेखा का गहन आध्यान
  • हस्त रेखाओं का रहस्मयी संसार
  • अंकों का रहस्यमयी संसार
  • ज्योतिष और आकृति विज्ञान
  • रत्नो का रहस्मयी संसार

वास्तु शास्त्र एवं फेंग सुई

  • सम्पूर्ण वास्तु शास्त्र
  • रेमेडिकल वास्तु (बिना तोड़ फोड़ के वास्तु)
  • फेंग सुई (चीनी वास्तु शास्त्र)
  • कमर्शियल वास्तु शास्त्र
  • पिरामिड एवं मंदिर वास्तु

मान्यता और वैज्ञानिक आधार

  • हिन्दू मान्यताओं का वैज्ञानिक आधार
  • हिन्दू मान्यताओं का धार्मिक आधार
  • कुतुबमिनार हिन्दू वेधशाला

अपनी जन्म पत्री स्वयं पढे

  • मेष लग्न फल
  • वृष लग्न फल
  • मिथुन लग्न फल
  • कर्क लग्न फल
  • सिंह लग्न फल
  • कन्या लग्न फल
  • तुला लग्न फल
  • वृश्चिक लग्न फल
  • धनु लग्न फल
  • मकर लग्न फल
  • कुम्भ लग्न फल
  • मीन लग्न फल

भोज संहिता

  • चंद्र खंड
  • सूर्य खंड
  • कुंडली खंड
  • मंगल खंड
  • बुध खंड
  • शनि खंड
  • राहू-केतू खंड
  • बृहस्पति खंड
  • शुक्र खंड

ज्योतिष और विभिन्न योग

  • ज्योतिष और धन योग
  • ज्योतिष और संतान योग
  • ज्योतिष और आयुष योग
  • ज्योतिष और विवाह योग
  • ज्योतिष में भवन, वाहन और कीर्ति योग
  • ज्योतिष और रोग विचार

ज्योतिषी उपचार

  • मंगल दोष कारण व निवारण
  • एनसाइक्लोपीडिया ऑफ कालसर्प योग
  • शनि उपचार (ढैया और साढ़ेसाती के उपकार सहित)
  • काल सर्प योग शांति और घट विवाह

भारतीय प्राच्य विद्याओं के उत्थान में समर्पित भाव से जो काम डॉ भोजराज द्विवेदी ने किया है वह एक साधारण व्यक्ति द्वारा सम्भव नहीं है वे इक्कीसवी शताब्दी के तंत्र-मंत्र, वास्तुशास्त्र, ज्योतिष जगत् के तेजस्वी सूर्य हैं जो सदियों तक युग पुरुष के रूप में याद किए जाएंगे।


Search Key:- Astrologer Dr. Bhojraj Dwivedi Biography, Bhojraj Dwivedi Books List, A Complete Guide