Posts tagged Delhi Temple

कालकाजी मंदिर, दिल्ली

kalkaji temple
kalkaji Temple

Short Introduction:- कालकाजी मंदिर, एक प्राचीन हिंदू मंदिर है, जो माँ पार्वती के अवतार काली को समर्पित है। यह मंदिर दक्षिण दिल्ली में प्रसिद्ध लोटस टैम्पल के पास स्थित है।

Kalkaji Temple, is an ancient Hindu temple, dedicated to the Kali or kalka, An avatar of Goddess Parvati, who killed the demon Raktabij. This temple is situated in south Delhi, India  near Lotus Temple.


कालका जी मंदिर, दिल्ली (Shri Kalkaji Temple in Hindi)

श्री कालकाजी मंदिर भारत की राजधानी दिल्ली के कालका में स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू देवी मंदिर है। इस इलाके का नाम कालकाजी मंदिर के नाम पर ही पड़ा है। यह प्रसिद्ध कमल मंदिर (Lotus Temple) और इस्कॉन मंदिर के नजदीक है।

कालका देवी मंदिर, कालका जी (दुर्गा का अवतार) को समर्पित है। इस मंदिर की गणना 51 शक्ति पीठों में होती है। कालकाजी मंदिर को ‘जयंती पीठा’ या ‘मनोकामना सिद्ध पीठा’ भी कहा जाता है।


कालका जी पौराणिक कथा (Legends of the Kalkaji Mandir Delhi)

कालका देवी मंदिर अति प्राचीन है। इसका इतिहास 3 हज़ार वर्ष से भी पुराना है। लोककथाओ के अनुसार देवी कालकाजी देवों द्वारा की गई प्रार्थनाओं और अनुष्ठानों से प्रसन्न होकर इस सूर्य कुट्टा पर्वत पर प्रकट हुई थी और उन्हें आशीर्वाद दिया था।

“श्री कालिके शुभदे देवी, सूर्यकोट निवासनी ।
त्वम देवी महामये विश्वरूपये नामस्तुतिये ।।”

तभी से कालका देवी इस पवित्र स्थान पर निवास करती है और अपने भक्तों की सभी इच्छाओं को पूरा करती है। ऐसे भी साक्ष्य मिलते है कि पांडवों और कौरवों ने युधिष्ठिर के शासनकाल के दौरान कालका देवी की पूजा की थी।


मंदिर निर्माण (History of  Kalkaji Temple)

माना जाता है कि 18 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में मराठा शासकों द्वारा कालका मंदिर का निर्माण किया गया था। सन 1816 ईस्वी में, राजा केदारनाथ (सम्राट अकबर द्वितीय के पेशावर) ने कालकाजी मंदिर की मूल संरचना में कुछ बदलाव किए। मंदिर का सबसे पुराना हिस्सा सन 1764 ई का माना जाता है।


मंदिर परिसर (Temple Complex and architecture)

कालकाजी मंदिर संगमरमर और काले पुमिस पत्थरों से बना है। चूंकि कालका देवी माँ काली से संबन्धित है इसलिए मंदिर निर्माण में काले रंग का प्रयोग किया गया है।

कालका देवी मंदिर परिसर ईंट चिनाई का निर्माण प्लास्टर (अब पत्थर के साथ) के साथ समाप्त होता है और एक पिरामिड टावर से घिरा हुआ है। सेंट्रल चैम्बर जो योजना व्यास में 12 पक्षीय है। (24 ‘आईएम) प्रत्येक पक्ष में एक द्वार के साथ संगमरमर के साथ पक्का है और एक वर्ंधा 8’9 “चौड़ा है और इसमें 36 कमाना खोलने (परिक्रमा में बाहरी द्वार के रूप में दिखाया गया है) शामिल है। यह वाराणह सभी तरफ से केंद्रीय चैम्बर संलग्न करता है। पूर्वी दरवाजे के बगल में आर्केड के बीच में पूर्वी द्वार है उर्दू में शिलालेखों के साथ एक संगमरमर के पेडस्टल पर बैठे लाल बलुआ पत्थर में बने दो बाघ हैं। दो बाघों के बीच कलकिदेवी की एक तस्वीर है जिसका नाम हिंदी में अंकित है और इससे पहले पत्थर खड़े हो गए हैं।


कालका जी मंदिर कैसे पहुंचे (How to reach kaalkaji Temple)

हवा मार्ग (By Air) :- दिल्ली में राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय दोनों प्रकार के हवाई अड्डे उपलब्ध है। कालकाजी मंदिर के नजदीकी एयरपोर्ट इंद्रा गांधी हवाई अड्डा (Indira Gandhi Airport, New Delhi) है, जो मंदिर से 15 किमी दूर है।

रेल मार्ग (By Rail) :- कालकाजी से हज़रत निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन (H Nizamuddin Railway Station)  4 km दूर है।

सड़क मार्ग (By Road):- लोकल बस Kalkaji Mandir Bus Stop पर उतरती है,जिससे मंदिर पैदल दूरी पर है। आप निजी वाहन या टेकसी से भी यात्रा कर सकते है।     

मेट्रो रेल से (By Metro):- यदि आप मेट्रो से यात्रा कर रहे है तो आपको कालकाजी मेट्रो स्टेशन (Kalkaji Mandir Metro Station) पर उतरना होगा। जहां से मंदिर पैदल दूरी पर है। 

Vehicle Parking facility:- निजी वाहन से आने वाले श्रद्धालु के लिए पार्किंग की सुविधा उपलब्ध है।


Tags:- Delhi Kal kahi Temple, Histry of kalka ji, KalkaJi Tempal Travel Guide in hindi, delhi shakti peeth.