Mahavidya

त्रिपुर सुंदरी, षोडशी, ललिता (महाविद्या-3)

त्रिपुरसुंदरी (Tripur Sundari) दस महाविद्याओं (दस देवियों) में से एक हैं। इन्हें ‘महात्रिपुरसुन्दरी’, ललिता, लीलावती, लीलामती, ललिताम्बिका, लीलेशी, लीलेश्वरी, तथा राजराजेश्वरी भी कहते हैं। काली, तारा महाविद्या, षोडशी भुवनेश्वरी ।भैरवी, छिन्नमस्तिका च विद्या धूमावती तथा ॥बगला सिद्धविद्या च मातंगी कमलात्मिका।एता दश-महाविद्याः सिद्ध-विद्याः प्रकीर्तिता: ॥ त्रिपुर सुंदरी, षोडशी, ललिता (महाविद्या-3) नाम त्रिपुरसुंदरी अन्य नाम महात्रिपुरसुन्दरी’, षोडशी, ललिता, लीलावती, लीलामती, …

त्रिपुर सुंदरी, षोडशी, ललिता (महाविद्या-3) Read More »

त्रिपुर भैरवी (महाविद्या-6)

भगवती भैरवी (Tripura Bhairavi) ‘षष्ठ महाविद्या’ हैं। इनकी उपासना द्वारा साधक समाज में सम्मानित स्थान तथा समान अधिकार प्राप्त करता है। ये भी भगवती आद्या-काली का ही स्वरूप हैं। इन्हें ‘त्रिपुर भैरवी’ (Teipir Bhairavi) कहा जाता है। ये काल-रात्रि सिद्ध विद्या हैं। काली, तारा महाविद्या, षोडशी भुवनेश्वरी ।भैरवी, छिन्नमस्तिका च विद्या धूमावती तथा ॥बगला सिद्धविद्या …

त्रिपुर भैरवी (महाविद्या-6) Read More »

Dhumavati devi

माँ धूमावती (महाविद्या-7)

धूमावती देवी (Goddess Dhumavati) भगवती ‘धूमावती’ (Dhumavati) महाविद्या में सातवी विद्या है। ये शत्रुओं का नाश करने वाली महाशक्ति तथा दुःखों की निवृत्ति करने वाली देवी हैं। इनकी उपासना करने वाला व्यक्ति कभी शत्रु से पराजित नहीं होता। ये शत्रु का सर्वनाश कर देती हैं। इन्हें दारिद्रय की देवी भी माना गया है इसी कारण …

माँ धूमावती (महाविद्या-7) Read More »

Bhuvaneshwari devi

भुवनेश्वरी देवी (महाविद्या-4)

भुवनेश्वरी देवी 4 महाविद्या (Goddess Bhuvaneshwari Devi Hindi) भुवनेश्वरी (Bhuveneshwari) अर्थात संसार भर के ऐश्वर्य की स्वामिनी। दशमहाविद्याओं में भगवती “भुवनेश्वरी” चतुर्थ विद्या है। जिस रूप में इन्होंने त्रिदेवो (ब्रह्मा, विष्णु, महेश) को दर्शन दिये दिये थे। देवी भागवत में इस बात का उल्लेख मिलता है। काली, तारा महाविद्या, षोडशी भुवनेश्वरी । भैरवी, छिन्नमस्तिका च …

भुवनेश्वरी देवी (महाविद्या-4) Read More »

Chinnamasta Devi

छिन्नमस्ता देवी (महाविद्या-5)

छिन्नमस्ता (Chinnamasta) ‘छिन्नमस्तिका ‘प्रचण्ड चण्डिका’ दस महाविद्यायों में से छठवीं महाविद्या हैं। छिन्नमस्ता देवी के हाथ में अपना ही कटा हुआ सिर है तथा दूसरे हाथ में कटार है। छिन्नमस्ता सकल चिंता का अंत करती है। इसलिए इनका एक अन्य नाम चिंतपुरनी भी है। Chinnamasta, Chhinnamastika and Prachanda-Chandika is a hindu goddess. She is one of the Mahavidyas, ten …

छिन्नमस्ता देवी (महाविद्या-5) Read More »