Sikh Guru

गुरू हर किशन (Guru Har Krishan)

गुरु हर किशन सिंह (Guru Har Krishan Singh) अथवा ‘गुरु हरि कृष्ण जी) सिक्खों के आठवें गुरु थे। वे 6 अक्टूबर, 1661 ई. में गुरु बने थे और इस पद पर 1664 ई. तक रहे। गुरू हर किशन (Eight Guru Of Sikh) पूरा नाम गुरु हर किशन सिंह जन्म 31 मार्च, 1656 जन्म भूमि कीरतपुर, पंजाब मृत्यु 30 मार्च, …

गुरू हर किशन (Guru Har Krishan) Read More »

गुरू अमरदास (Guru Amar Das)

गुरु अमरदास (Guru Amar das) सिक्खों के तीसरे गुरु थे। गुरु अमरदास 26 मार्च, 1552 से 1 सितम्बर, 1574 तक गुरु के पद पर आसीन रहे। गुरु अमरदास को समाजिक उत्थान के कार्यो के लिए भी जाना जाता है। गुरू अमरदास- तीसरे पातशाह (Third Guru of Sikh) पूरा नाम गुरु अमरदास (Guru Amar Das) जन्म 5 अप्रॅल, 1479 जन्म …

गुरू अमरदास (Guru Amar Das) Read More »

गुरु तेग़ बहादुर (Guru Tegh Bahadur)

गुरू तेग बहादुर (1 अप्रैल 1621 – 19 दिसंबर, 1675) सिखों के नवें गुरु थे। इनके द्वारा रचित 115 पद्य गुरु ग्रंथ साहिब में सम्मिलित हैं। विश्व के इतिहास में धर्म एवं सिद्धांतों की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वालों में इनका अद्वितीय स्थान है। गुरु तेग़ बहादुर (Guru Tegh Bahadur) पूरा नाम गुरु तेग़ बहादुर सिंह जन्म 18 अप्रैल, …

गुरु तेग़ बहादुर (Guru Tegh Bahadur) Read More »

गुरु हरगोबिन्द सिंह (Guru Hargobind Singh)

गुरु हरगोबिंद सिंह (Guru Hargobind Singh) सिक्खों के छठे गुरु थे, इनका जन्म 14 जून, सन् 1595 ई. में बडाली (अमृतसर) में हुआ था। इन्होंने सिख समुदाय को सेना के रूप में संगठित होने के लिए प्रेरित किया था। गुरु हरगोबिंद सिंह (Guru Hargovind Singh) जन्म 14 जून, सन् 1595 (बडाली, अमृतसर) मृत्यु 3 मार्च, 1644 (कीरतपुर, पंजाब2) पिता  गुरु …

गुरु हरगोबिन्द सिंह (Guru Hargobind Singh) Read More »

गुरु अर्जन देव (Guru Arjan Dev)

गुरु अर्जन देव या गुरू अर्जुन देव (25 अप्रेल 1563–9 जून 1606) सिखों के 5 वे गुरु थे। गुरु अर्जन देव जी शहीदों के सरताज एवं शान्तिपुंज हैं। आध्यात्मिक जगत में गुरु जी को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। उन्हें ब्रह्मज्ञानी भी कहा जाता है। गुरुग्रंथ साहिब में तीस रागों में गुरु जी की वाणी संकलित है। गणना की दृष्टि से …

गुरु अर्जन देव (Guru Arjan Dev) Read More »