Stotram

श्री स्वर्णाकर्षण भैरव स्तोत्र ॥ Shri Swarnakarshan Bhairav Stotram

Topic:- Swarnakarshan Bhairav Stotram स्वर्णाकर्षण भैरव (Swarnakarshan Bhairav) काल भैरव का ही सात्त्विक रूप हैं, जिनकी पूजा धन प्राप्ति के लिए की जाती है। स्वर्णाकर्षण भैरव का निवास पाताल में हैं। इनकी सवारी कुत्ता, भोग दूध-मेवा हैं। साधकों को इनकी उपस्थिती का अनुभव सुगंध से होती हैं। इनके साधना से दारिद्य्र समाप्त हो जाता हैं। …

श्री स्वर्णाकर्षण भैरव स्तोत्र ॥ Shri Swarnakarshan Bhairav Stotram Read More »

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र ॥ Sri Ganesha Pancharatnam Stotram

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र (Ganesha Pancharatnam Stotram Hindi) भगवान गणेश (Lord Ganesha) विघ्नहर्ता हैं, यदि गणेश जी प्रसन्न हो जाये तो जीवन में किसी चीज़ का अभाव नही रहता, सभी मनोरथ पूर्ण हो जाते हैं। विघ्नहर्ता भगवान को प्रसन्न करने के लिए आदि शंकराचार्य द्वारा रचित श्री गणेश पंचरत्नम स्तोत्र (Shri Ganesha Pancharatna Stotram) का …

श्री गणेश पञ्चरत्नं स्तोत्र ॥ Sri Ganesha Pancharatnam Stotram Read More »

श्री सन्तानगोपाल स्तोत्र ॥ Santan Gopal Stotra

श्री सन्तानगोपाल स्तोत्र (Santan Gopal Stotra Hindi) समान्यतः विवाहपरान्त नवदंपती को संतान की प्राप्ति स्वाभाविक हैं। परंतु कभी-कभी पूर्व जन्म के कर्म फल अथवा ग्रह बाधा के कारण संतान की प्राप्ति नही होती। निराश व्यक्ति विभिन्न उपचार और अनुष्ठान करवाता हैं, लेकिन कोई लाभ नहीं होता। क्योंकि प्रारब्ध को मिटाना सरल नही होता। ऐसे में …

श्री सन्तानगोपाल स्तोत्र ॥ Santan Gopal Stotra Read More »

Ganesha

श्री संकटनाशन गणेश स्तोत्र ॥ Sankat Nashan Ganesh Stotra

Sankat Nashan Ganesh Stotra in Hindi भगवान गणेश (Goddess Ganesha) विघ्नहर्ता हैं, यदि गणेश जी प्रसन्न हो जाये तो जीवन में किसी चीज़ का अभाव नही रहता, सभी मनोरथ पूर्ण हो जाते हैं। नारद पुराण में वर्णित संकटनाशन गणेश स्तोत्र (Sankat Nashan Ganesh Stotra) गणेश जी को प्रसन्न करने का एक सरल साधन हैं। नारद …

श्री संकटनाशन गणेश स्तोत्र ॥ Sankat Nashan Ganesh Stotra Read More »

Durga (Mahishasura Mardini)

श्री महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् ॥ Mahishasura Mardini Stotram

श्री महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् (Mahishasura Mardini Stotram Hindi) शास्त्रों में कहा गया हैं जो भी महिषासुरमर्दिनि स्तोत्र (Mahishasura Mardini Stotram) का दिन में एक बार पाठ करता है उसके जीवन में किसी भी प्रकार का संकट नही आता और न ही वह नरक जाता हैं। महिषासुरमर्दिनि स्तोत्र पाठ विधि:- सर्वप्रथम प्रातः स्नानादि से निवृत्त होकर साफ …

श्री महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् ॥ Mahishasura Mardini Stotram Read More »